Follow by Email

Friday, June 3, 2011

मेरा साहब

दुखों की कश्ती लेके आया था मेरा साहब
मैंने सागर में उसे पौढ़ा दिया
बहुत नाराज़ है मेरी ख़ुशी से अब मेरा साहब
दुःख की परिभाषा तलाश रहा है शब्दकोशों में
-रोशन प्रेमयोगी

No comments:

Post a Comment