Follow by Email

Monday, January 25, 2010

लोकतंत्र जाग रहा है

चुप रहते थे हमारे बाबूजी
दादाजी की तरह
नेता जी आते थे सिर्फ यह कहने
इस निशान पर मुहर लगाना
मैंने बोलना शुरू किया
सवाल करता हूँ वोट मांगने वालों से
मेरे बाद की पीढ़ी हिसाब मांगेगी
एक-एक योजना का
अपने इनकम टैक्स का
देश जाग रहा है
युआ जाग रहा है
लोकतंत्र जाग रहा है
सोने वाले नेताओं'
तुम भी जाग जाओ
-रोशन प्रेमयोगी

Saturday, January 16, 2010

जब भी पाँव उतारोगे नाव से

उदास रातों में मै सपना बनकर आऊंगा

धूप में निकालोगे तो बादल बन जाऊंगा

तुम मुझे कैसे निकाल पाओगे यादों के सागर से

जब भी पाँव उतारोगे नाव से किनारे बांहे फैलाये नज़र आऊंगा

-रोशन प्रेमयोगी

बात से बात बन जाए

बात कुछ जल्द शुरू हो तो बात होती है
बात से बात बन जाए तो बात होती है
बात की क़द्र करते हो तो बातूनी न बनो
बात यदि अहमियत रखे तो बात होती है
-रोशन प्रेमयोगी

बड़ी खतरनाक है नई सुबह

बड़ी खतरनाक है नई सुबह
रात में बहुत ठंढ थी
नींद नही आयी
सोचा था सुबह होने पर खूब नहाऊंगा और गरम खिचडी खाऊँगा
और आफिस जाऊंगा
नहा-खा कर ऑफिस पहुँचा तो कहा गया मंदी की चपेट में हो तुम
घर चला आया
अब तो दिन में भी सर्दी लग रही है
उम्मीद थी की पेट की आग गरमी देगी
पर अब तो बरफ लग रहा है पेट
देवदार लग रहे हैं हाथ
पत्थर लग रही है आँखे
पानी लग रहा है दिमाग
रोशन प्रेमयोगी

तब भी जवान था प्यार

जब मैं बच्चा था
तब भी जवान था प्यार
जब मैं जवान हूँ
तब भी युवा है प्यार
जब मैं बूढा हो जाऊँगा
तब भी जवान रहेगा प्यार
मानव स्वभाव
झुंझलाता हूँ'
आखिर क्यों नहीं मेरे साथ
बूढा हो जाता
यह प्यार
-रोशन प्रेमयोगी

इस गली में गुलाब हैं साहिब


बड़ी मुश्किल से घर से निकला मै शहर के लिए

वसंत ने रोक लिया, कहा,

बाग देख तो लो।

उसकी आरजू थी, फिर हुई मेरी मर्जी

बहुत घूमा, बहुत कुछ देखा

किसी ने रोका नही, ख़ुद से मैं रुका भी नही

प्यार क्या चीज है बता दूँ कैसे

एक एहसास है दिल में कहो बतला दूँ,

पाँव के काँटों ने एहसास कराया है साहिब

इस गली में गुलाब हैं साहिब।

-रोशन प्रेमयोगी

थोड़े अंधेरे में


कल जब शाम ढल रही थी
मेरी पलको तले था एक सपना
थोड़े अंधेरे में
उजाला तलाश रहा था सपने में
सुबह से ही नही थी बिजली
जब मै था उजाले के बेहद करीब
अचानक जल गया बल्ब
टूट गया सपना बुझ गया प्रकाश
कल जब शाम ढल रही थी
बहुत याद आयी तुम्हारी
अगर तुम होती घर में बल्ब न जलाता
खली पंखा चलता
बड़ा होता मेरा सपना
हासिल कर लेता मै प्रकाश

एक उमँग एक तरंग


मुझे पसंद है पीला रंग



पीली कनेर की तरह हो जो भीनी खुशबू वाला



जिसमे हो एक सपना एक प्यार एक मर्यादा



एक उमँग एक तरंग



मुझे पसंद है सपना को देखना



मुझे पसंद है सपना से प्यार करना



मुझे पसंद है कनेर का फूल देखना



मुझे पसंद है पीला रंग



अजीब बात यह है मैं कनेर सा पीला रंग खेलना चाहता हूँ



जिसमे भीनी खुशबू हो



जो बाजार में नही मिलाता



सो मैं सपना से खेलता हूँ रंग



फूलों को देख मन में भर लेता हूँ उमँग



होली मेरे लिए सपना है



होली मेरे लिए पीली कनेर है



होली मेरे लिए मन की उमँग है



होली मेरे लिए गीत है



जिसे केवल याद करता हूँ गाता नही



क्यों की मेरा सुर नहीं अच्छा है



वैसे भी मुझे केवल गुनगुनाना अच्छा लगता है



क्योंकी मई नही चाहता की लोग जान लें की



रोशन को येही गीत पसंद है



लोग यह जान लेंगे तो नज़र लगा देंगे



-रोशन प्रेमयोगी


भीगेगा तुम्हारा तन-मन


खुली आँखों में ढेर सारे बादल रोज़ उमड़ते हैं
लेकिन कभी बरसात नहीं होती
सूखा पड़ गया है दिल की धरती पर
कुछ दोस्त कभी-कभी दिलासा देते हैं
कराएँगे क्लाउड सीडिंग
होगी झमाझम बारिश
भीगेगा तुम्हारा तन-मन
जिस दिन मिलता है दिलासा
दिन भर खुश रहता हूँ
रात को देखता हूँ ढेर सारे सपने
अगले दिन छाया रहता है खुमार
उसके अगले दिन खोलकर बैठता हूँ घर का दरवाज़ा
शाम हो जाती है कोई दोस्त नही आता
मैं अगले दिन निकल जाता हूँ बाज़ार
इस उम्मीद में कि कुछ दोस्त तो मिलेंगे ही
मिलते हैं, सॉरी बोलते हैं, व्यस्तता का बहाना बनाते हैं
अगले हफ्ते आने का वादा करते हैं
मैं खुश
लेकिन वे अगले हफ्ते भी नहीं आते
मैंने भी कल एक रास्ता निकाला है
जब बहुत भीगने का मन करता है तो
आधी रात में छत पर चला जाता हूँ
लेट जाता हूँ
सुबह महसूस करता हूँ
मेरी त्वचा चिपचिपा रही है
खुश होता हूँ
चलो बारिश न सही
ओश में तो भीग गया तन
एक दिन इसी तरह भीग जाएगा मन
-रोशन प्रेमयोगी

Friday, January 8, 2010

नयी उम्मीद करो ख़ुद से

कोई उम्मीद करो ख़ुद से

कोई रास्ता तलाशो ख़ुद से

कोई पतवार गढो ख़ुद से

कोई नाव बनाओ खुसे

कभी गंगा में जाओ ख़ुद से

कभी रेत से नहाओ ख़ुद से

कभी पानी लुटाओ ख़ुद से

कभी डुबकी लगाओ ख़ुद से

तुम्हे भी मंजिल मिल जायेगी

सफलता तुम्हारे भी हाथ आयेगी

न भी आए तो उदास मत हो

एक बार मुस्कुराओ ख़ुद से

अपनी असफलता को स्वीकार करो

एक बार

नयी उम्मीद करो ख़ुद से

कोई पतवार गढो फ़िर से

कोई नाव चलाओ फ़िर से

-रोशन प्रेमयोगी

मुझे कोई सुरीला साज़ बजाते पाओगे

मै आपको चाँद तोड़कर तो नही दे सकता


मै अपने हाथों से ईंट भी नही तोड़ सकता


मैं नदी की धारा नही मोड़ सकता


फ़िर भी मैं बहुत कुछ केर सकता हूँ


मैं आपको चाँद का सपना दिखा सकता हूँ


मैं आपके सपनों की परवरिश कर सकता हूँ


मैं बता सकता हूँ कल्पना में यथार्थ कितना है


यथार्थ में झूठ कितना है


मैं सिखा सकता हूँ अपने सुख को कैसे बांटो


मैं बता सकता हूँ अपने दुःख को कैसे एन्जॉय करो


लेकिन यह मत सोचो मेरे पास कोई जादुई छड़ी है


या फ़िर समय को कंट्रोल कराने वाली घड़ी है


मेरे पास सिर्फ़ रास्ते हैं


जो तुम्हारी मंजिल तक भी जाते हैं


मेरे पास सपने हैं


जो तुम्हारे दिल तक जाते हैं


मेरे पास एक आईना है


जिसमे देखकर अपना चेहरा


तुम गुनगुना सकते हो कोई प्रेम गीत


कोई भजन


कोई निर्गुण


जब तुम इनमे से कुछ गुनगुनाओगे


मुझे कोई सुरीला साज़ बजाते पाओगे


-रोशन प्रेमयोगी

मैं खुश नहीं हूँ

बहुत उदास लगाती है सुबह
बहुत निराश लगाती है शाम
मनमोहन सिंह का प्रधानमंत्री बनना
मुझे जाने क्यों गाँधी, लोहिया का अपमान लगता है
गरीब की रोटी मंहगी हो गई
अमीर की रोटी सस्ती
कल जब गया बिग बाज़ार
१४० रुपये में मिला मुझे १० किलो आटा
आज पड़ोस की आटा चक्की पैर एक मजदूर को
मैंने १३.५० के हिसाब से ३ किलो आटा खरीदते देखा
आँखों में आंसू आ गए
१३००० कमाने वाले रोशन प्रेमयोगी वातानुकूलित बिग बाज़ार में
१४ रुपये किलो आटा खरीदते हैं
१०५ रुपये प्रतिदिन मजदूरी पाने वाले सुनील १३.५० में
मुकेश अम्बानी भी शायद रोटी खाते होंगे
वे भी अधिकतम १५-१६ रुपये किलो आटा खरीदते होंगे
उनके आते का दाम विगत १० सालों में लगभग वही है
मज़दूर-किसान के आते का दाम ५ रुपये से बढ़कर १४ तक पहुच गया
हे महात्मा गाँधी!
क्या यह भारतीय विकास का दर्शन देखकर तुम्हारी आंखों में आंसू नहीं हैं?
मेरे जिले में पैदा हुए डॉ राम मनोहर लोहिया तो रो रहे हैं
यह कैसा अन्तोदय है बाबा अम्बेडकर?
जब भारत आजाद हुआ था तो इस देश में साछरता दर लगभग २३ प्रतिशत थी
इस समय लगभग ६२ प्रतिशत है
यानि १ प्रतिशत सालाना भी नहीं बढ़ी
अनाज का दाम तो किसानो को मिल रहा है लेकिन
लाभ कमा रही हैं कम्पनियाँ
शुक्रिया मनमोहन सिंह जी
आपके राज़ में मज़दूर और अरबपति की रसोई में जाने वाले आटा का रेट लगभग बराबर है
लेकिन मैं दुखी हूँ प्रधानमंत्री जी
मैं खुश नहीं हूँ
मुंबई स्टाक एक्सचेंज के बढ़ते ग्राफ से
देश में ५ स्टार अस्पतालों के खुलने से
हवाई जहाज का किराया कम होने से
मैं बहुत दुखी हूँ
गाँधी की विचारधारा के मरने से
लोहिया का समाजवाद ढहने से
अम्बेडकर की नीतियों के मरने से
-रोशन प्रेमयोगी

भीगेगा तुम्हारा तन-मन

खुली आँखों में ढेर सारे बादल रोज़ उमड़ते हैं
लेकिन कभी बरसात नहीं होती
सूखा पड़ गया है दिल की धरती पर
कुछ दोस्त कभी-कभी दिलासा देते हैं
कराएँगे क्लाउड सीडिंग
होगी झमाझम बारिश
भीगेगा तुम्हारा तन-मन
जिस दिन मिलता है दिलासा
दिन भर खुश रहता हूँ
रात को देखता हूँ ढेर सारे सपने
अगले दिन छाया रहता है खुमार
उसके अगले दिन खोलकर बैठता हूँ घर का दरवाज़ा
शाम हो जाती है कोई दोस्त नही आता
मैं अगले दिन निकल जाता हूँ बाज़ार
इस उम्मीद में कि कुछ दोस्त तो मिलेंगे ही
मिलते हैं, सॉरी बोलते हैं, व्यस्तता का बहाना बनाते हैं
अगले हफ्ते आने का वादा करते हैं
मैं खुश
लेकिन वे अगले हफ्ते भी नहीं आते
मैंने भी कल एक रास्ता निकाला है
जब बहुत भीगने का मन करता है तो
आधी रात में छत पर चला जाता हूँ
लेट जाता हूँ
सुबह महसूस करता हूँ
मेरी त्वचा चिपचिपा रही है
खुश होता हूँ
चलो बारिश न सही
ओश में तो भीग गया तन
एक दिन इसी तरह भीग जाएगा मन
-रोशन प्रेमयोगी