Follow by Email

Saturday, January 16, 2010

एक उमँग एक तरंग


मुझे पसंद है पीला रंग



पीली कनेर की तरह हो जो भीनी खुशबू वाला



जिसमे हो एक सपना एक प्यार एक मर्यादा



एक उमँग एक तरंग



मुझे पसंद है सपना को देखना



मुझे पसंद है सपना से प्यार करना



मुझे पसंद है कनेर का फूल देखना



मुझे पसंद है पीला रंग



अजीब बात यह है मैं कनेर सा पीला रंग खेलना चाहता हूँ



जिसमे भीनी खुशबू हो



जो बाजार में नही मिलाता



सो मैं सपना से खेलता हूँ रंग



फूलों को देख मन में भर लेता हूँ उमँग



होली मेरे लिए सपना है



होली मेरे लिए पीली कनेर है



होली मेरे लिए मन की उमँग है



होली मेरे लिए गीत है



जिसे केवल याद करता हूँ गाता नही



क्यों की मेरा सुर नहीं अच्छा है



वैसे भी मुझे केवल गुनगुनाना अच्छा लगता है



क्योंकी मई नही चाहता की लोग जान लें की



रोशन को येही गीत पसंद है



लोग यह जान लेंगे तो नज़र लगा देंगे



-रोशन प्रेमयोगी


No comments:

Post a Comment