Follow by Email

Friday, January 8, 2010

मैं खुश नहीं हूँ

बहुत उदास लगाती है सुबह
बहुत निराश लगाती है शाम
मनमोहन सिंह का प्रधानमंत्री बनना
मुझे जाने क्यों गाँधी, लोहिया का अपमान लगता है
गरीब की रोटी मंहगी हो गई
अमीर की रोटी सस्ती
कल जब गया बिग बाज़ार
१४० रुपये में मिला मुझे १० किलो आटा
आज पड़ोस की आटा चक्की पैर एक मजदूर को
मैंने १३.५० के हिसाब से ३ किलो आटा खरीदते देखा
आँखों में आंसू आ गए
१३००० कमाने वाले रोशन प्रेमयोगी वातानुकूलित बिग बाज़ार में
१४ रुपये किलो आटा खरीदते हैं
१०५ रुपये प्रतिदिन मजदूरी पाने वाले सुनील १३.५० में
मुकेश अम्बानी भी शायद रोटी खाते होंगे
वे भी अधिकतम १५-१६ रुपये किलो आटा खरीदते होंगे
उनके आते का दाम विगत १० सालों में लगभग वही है
मज़दूर-किसान के आते का दाम ५ रुपये से बढ़कर १४ तक पहुच गया
हे महात्मा गाँधी!
क्या यह भारतीय विकास का दर्शन देखकर तुम्हारी आंखों में आंसू नहीं हैं?
मेरे जिले में पैदा हुए डॉ राम मनोहर लोहिया तो रो रहे हैं
यह कैसा अन्तोदय है बाबा अम्बेडकर?
जब भारत आजाद हुआ था तो इस देश में साछरता दर लगभग २३ प्रतिशत थी
इस समय लगभग ६२ प्रतिशत है
यानि १ प्रतिशत सालाना भी नहीं बढ़ी
अनाज का दाम तो किसानो को मिल रहा है लेकिन
लाभ कमा रही हैं कम्पनियाँ
शुक्रिया मनमोहन सिंह जी
आपके राज़ में मज़दूर और अरबपति की रसोई में जाने वाले आटा का रेट लगभग बराबर है
लेकिन मैं दुखी हूँ प्रधानमंत्री जी
मैं खुश नहीं हूँ
मुंबई स्टाक एक्सचेंज के बढ़ते ग्राफ से
देश में ५ स्टार अस्पतालों के खुलने से
हवाई जहाज का किराया कम होने से
मैं बहुत दुखी हूँ
गाँधी की विचारधारा के मरने से
लोहिया का समाजवाद ढहने से
अम्बेडकर की नीतियों के मरने से
-रोशन प्रेमयोगी

No comments:

Post a Comment